Inspiration


आज यह महाविद्यालय जो आपके समक्ष संस्थापित है , वह हमारे पूज्य पिता जी की प्रेरणा के फलस्वरूप ही मूर्त रूप ले सका है ।

उनके द्वारा किये गए शिक्षा व समाज सेवा के कार्यों ने ही हमें सनाज के सभी वर्गों को शिक्षित करने एवं उनके सर्वागीण विकास हेतु प्रेरित किया hai ।उनके द्वारा किये गए शिक्षा व समाज सेवा के कार्यों ने ही हमें सनाज के सभी वर्गों को शिक्षित करने एवं उनके सर्वागीण विकास हेतु प्रेरित किया है ।

उनका हमेशा से ही यह विश्वास था की केवल शिक्षा ही एक ऐसा मात्रा शस्त्र है जिसके द्वारा समाज एवं देश की प्रगति संभव है । शिक्षा का महत्व उन्होंने अपने जीवन मैं बहुत ही महत्वपूर्ण रूप से ग्रहण किया और आपने शिक्षा ग्रहण कर भारतीय सेना मैं ( सन् 1982 – 1990 ) तक सम्मानीय पद पर रहते हुए देश की सेवा का गौरव प्राप्त किया । हम सब आपके द्वारा बताये गए शिक्षा व सामजिक मूल्यों को आत्मसात करते हुए सबको शिक्षा व सामाजिक विकास हेतु हमेशा कृत संकल्पित हैं ।

( जन्म 1960 निर्वाण 2006 )
स्वर्गीय श्री के पी आर्य
मुन्नालाल आर्य बीड़ी वाले